04 जून : आरा की मुख्य खबरें

0
आरा की मुख्य ख़बरें

भोजपुर में आटा मिल मालिक की गोली मारकर की हत्या

आरा : भोजपुर के धनगाई थानान्तर्गत दलीपपुरडीह गांव स्थित नहर के समीप गुरुवार की देर शाम हथियारबंद अपराधियों ने एक आटा मिल मालिक की गोली मारकर हत्या कर दी। धनगाई थानाध्यक्ष लक्ष्मी पटेल ने घटनास्थल से शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

मृतक दलीपुरडीह गांव निवासी रामसूरत कुशवाहा का 22 वर्षीय पुत्र राजू कुमार कुशवाहा है। वह पीरो थाना क्षेत्र के हसवाडीह बाजार पर आटा मिल चलाता है। धनगाई थानाध्यक्ष लक्ष्मी पटेल ने बताया कि हर रोज की तरह राजू कुमार कुशवाहा गुरुवार की देर शाम आटा मिल बंद कर साइकिल से वापस अपने गांव लौट रहा था। जैसे ही वह गांव स्थित नहर के समीप पहुंचा, हथियारबंद अपराधियों ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी।

घटना के बाद वह खून से लथपथ वहीं सड़क पर पड़ा था। तभी वहां से गुजर रही बारातियों की नजर उस पर पड़ी। इसके बाद गांव वालों की भीड़ जुट गई। ग्रामीणों ने इसकी सूचना स्थानीय थाना को दी। युवक की हत्या किस कारण हुई है और किसने की? यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं हो पाया है। हालांकि पुलिस अपने स्तर से मामले की छानबीन कर रही है।

एक माह तक बेटी के साथ करता रहा रेप, पुलिस ने किया गिरफ्तार

आरा : आज समाज में बेटी पाने पिता या भाई के पास भी सुरक्षित नही है। भोजपुर जिले के धोबहा ओपी अंतर्गत एक गाँव में एक पिता ने सभी रिश्तों को शर्मसार करते हुए अपनी ही बेटी का एक महीने तक बलात्कार करता रहा। विरोध करने पर मारपीट करता तथा जान से मरने की धमकी भी देता था| मामला सामने आने पर पुलिस ने बलात्कारी पिता को गिरफ्तार कर लिया है| पुलिस ने लड़की की आरा सदर अस्पताल में मेडिकल जांच करवाई तथा आरा कोर्ट में उसका बयाल भी दर्ज करवाया।

पीडिता ने पुलिस को बताया कि उसका पिता जबरन उसे अपने पास सोने को विवश करता था और जब वह इंकार करती तो उसको मारता पिटता था तथा जान से मारने की धमकी भी देता था। वह जबरदस्ती उसे करीब एक महीने से अपने पास सुलाता और उसके साथ दुष्कर्म भी करता था| दो दिन पहले यानी बुधवार की रात भी उसे उसके साथ दुष्कर्म किया।

इसके बाद उसके सब्र का बाँध टूट गया और वह अपनी माँ के साथ थाने पहुँच कर अपने पिता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज़ करवाई| उसकी शिकायत के बाद भोजपुर एसपी राकेश कुमार दुबे के आदेश पर पुलिस ने बलात्कारी पिता को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया| एसपी ने कहा मामले की जांच की जा रही है। यह घटना पूरे समाज को कलंकित करने वाला है। ऐसा घृणित काम करने वाले को बख्शा नहीं जाएगा। मामले की स्पीड ट्रायल चला सजा दिलवाने का प्रयास किया जायेगा।

मगध विवि के कुलपति ने वीकेएसयू के वीसी का लिया प्रभार, विवि में विद्यार्थियों के लिए उत्कृष्ट प्रबंध किया जायेगा

आरा : राजभवन के आदेश से वीर कुवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो देवी प्रसाद तिवारी को अनिवार्य अवकाश पर भेज दिए जाने के बाद मगध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो राजेंद्र प्रसाद ने वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति पद पर योगदान किया। योगदान देने के बाद कुलपति ने शिक्षक व शिक्षकेतर कर्मचारियों को संबोधित किया। कुलपति प्रो राजेन्द्र प्रसाद ने कहा कि राजभवन ने वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय की नई जिम्मेवारी सौंपी है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की वर्तमान समस्याओं के समाधान की पूरी कोशिश करेंगे| इसके लिए सबका सहयोग जरूरी है। जिस किसी कारण से राजभवन से जो दायित्व मिला है, उसका पूरी ईमानदारी से पालन किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से विवि में विद्यार्थियों के लिए उत्कृष्ट प्रबंध किया जायेगा। विद्यार्थियों की समस्या दूर करना हमारी पहली प्राथमिकता होगी। उन्होंने विवि कर्मियों से पूरी निष्ठा एवं लगन से ड्यूटी करने का आह्वान किया। नये वीसी ने कहा कि मगध विवि की तरह वीकेएसयू में भी उच्च शिक्षा के क्षेत्र में काम किया जायेगा ताकि विद्यार्थी लाभान्वित हों। वीसी ने कहा कि पूरी निष्ठा के साथ विवि की एकेडमिक गतिविधियां पटरी पर लाते हुए विकास किया जायेगा।

वीसी प्रो राजेंद्र प्रसाद ने नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन पर जोर देते हुए कहा कि बिहार के विवि के समक्ष कई प्रकार की चुनौतियां हैं। इनके समाधान के लिए विशेष प्रयास की आवश्यकता है। विवि में जो कमियां हैं, उन्हें दूर किया जायेगा। उन्होंने छात्र हित को सर्वोपरि बताते हुए समय पर नामांकन और रिजल्ट प्रकाशित करने पर जोर दिया। इसके लिए जो भी लंबित परीक्षाएं हैं, जल्द ली जायेंगी। ओएमआर आधारित परीक्षा लेकर समय पर रिजल्ट निकाला जायेगा। साथ ही सत्र को नियमित किया जायेगा। प्रो प्रसाद ने अधिकारियों से कहा कि जितने भी छात्रों का रिजल्ट पेंडिंग में है और जितना त्रुटि हुई है, वैसे छात्रों का रिजल्ट जल्द से जल्द सुधार किया जाए।

वीसी ने कहा कि कोई भी फाइल किसी कार्यालय में तीन दिन से अधिक नहीं पड़ी रहनी चाहिए। शिक्षक, कर्मी और छात्र हितों से जुड़े मामले त्वरित निष्पादित होने चाहिए। इसके अनुपालन को ले संबंधित अधिकारी और कर्मियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया जायेगा। वीसी ने कहा कि हमारा लक्ष्य है सर्वगुण संपन्न युवा जनशक्ति तैयार करना। विद्यार्थियों को भी इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा कैसे प्राप्त हो। उन्होंने शिक्षकों से अपील की कि विद्यार्थियों को रोजगार के लिए तैयार करे। परंपरागत कोर्स के साथ- साथ वोकेशनल कोर्स को बढ़ावा देने की जरूरत है।

नये वीसी को इस विश्वविद्यालय में शैक्षणिक कैलेंडर व परीक्षा कैलेंडर को नियमित करने की चुनौतियों का सामना करना पडेगा तथा शिक्षक-कर्मचारी व विद्यार्थियों के बीच समन्वय स्थापित करते हुए विवि को विकास की राह पर आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी का भी सफलतापूर्वक निर्वहन करना होगा क्योंकि सत्र विलंब से चल रहा है। यहां पेंडिंग रिजल्ट की प्रमुख समस्या है। इससे निजात के लिए क्या पहल की जाती है, यह समय बतायेगा।

वीसी प्रो राजेंद्र प्रसाद के पास उच्च शिक्षण संस्थान का 44 वर्षों का लंबा अनुभव है। उन्होंने कहा कि वीर कुंवर सिंह विवि के ढांचे को देखने से लग रहा है कि यहां विकास की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षकों, कर्मचारियों और पदाधिकारियों में यह भाव जरूर होना चाहिए कि सब कुछ विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के लिए ही है।

वीर कुंवर सिंह विवि के वीसी के रूप में सेवा करने का अवसर मिला है। उन्होंने बताया कि वे इलाहाबाद स्टेट यूनिवर्सिटी, पीविवि व डीडीयू गोरखपुर के कुलपति रह चुके हैं। वर्तमान में मगध विश्वविद्यालय बोधगया का कुलपति हूं। अब वीर कुंवर सिंह विवि का अतिरिक्त प्रभार मिला है। मालूम हो कि प्रो राजेंद्र प्रसाद दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में रक्षा अध्ययन विभाग के वरीय प्रोफेसर रहे हैं।

पूर्व कुलपति ने कुलसचिव को किया निलंबित, नए कुलपति ने आदेश किया निरस्त

आरा : वीर कुअर सिंह विश्वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति प्रो देवी प्रसाद तिवारी ने कुलसचिव प्रो धीरेंद्र कुमार सिंह से शो कॉज किया गया था। शोकॉज के जवाब से अंसतुष्ट कुलपति ने एक जून को कुलसचिव को सस्पेंड कर करते हुए उनके पैतृक कॉलेज शेरशाह कॉलेज सासाराम में रिपोर्ट करने का आदेश दे दिया। पर नये कुलपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने योगदान देते ही पूर्व कुलपति के आदेश को निरस्त करते हुए कहा कि कुलसचिव पद पर डॉ धीरेंद्र कुमार सिंह बने रहेंगे।

राजभवन से इस मामले पर बात हो गयी है। बता दें कि राजभवन की ओर से कुलपति प्रो देवी प्रसाद तिवारी को उन पर लगे कई वित्तीय एवं प्रशासनिक आरोप और जांच कमेटी को सहयोग नहीं किये जाने के मामले में अनिवार्य अवकाश पर भेज दिया है। राजभवन की ओर से अवकाश पर जाने के आदेश के एक दिन पहले उन्होंने कुलसचिव को निलंबित कर दिया पर विश्वविद्यालय में कुलपति का पदभार ग्रहण करने पहुंचे वीसी प्रो राजेंद्र प्रसाद ने कुलसचिव के पद पर बने रहने की बात कही। उन्होंने कहा कि इस बाबत राजभवन से बात हुई है।

राजभवन ने उन्हें पद पर बने रहने का निर्देश दिया है। कहा कि वे संवैधानिक संकट झेलने नहीं बल्कि समाप्त करने आये हैं। मालूम हो कि एक जून को सस्पेंड किये जाने का पत्र निर्गत किया गया, जबकि वीसी प्रो देवी प्रसाद तिवारी को राजभवन ने दो जून को अनिवार्य छूट्टी पर भेजा है। इधर, एक बात यह भी निकल कर सामने आई कि कार्रवाई से क्या वीसी द्वारा राजभवन को अवगत कराया गया या नहीं। कुलसचिव की नियुक्ति राजभवन ने की है। उन्हें वीकेएसयू का प्रभार भी राजभवन ने सौंपा है। बहरहाल यह मामला धीरे-धीरे तूल पकड़ता दिख रहा है।

प्रभारी कुलसचिव ने अपने को सस्पेंड किये जाने के मामले से वर्तमान कुलपति डॉ प्रसाद को भी अवगत कराया। कुलसचिव ने बताया कि कुलपति पूर्व कुलपति ने उन्हें निलंबित करने के संबंधित पत्र व्हाट्सएप पर भेजा था। यह पत्र उन्हें बुधवार यानी दो जून को पौने 10 बजे मिला था। उन्होंने कहा कि प्रो देवी प्रसाद तिवारी को राजभवन ने दो जून को अवकाश पर भेज दिया था। फिर उन्होंने बैक डेट में पत्र लिखकर व्वाट्सएप किया है।

बता दें कि विगत दिन वीसी प्रो देवी प्रसाद तिवारी ने प्रभारी कुलसचिव से कारण बताओ नोटिस जारी किया था। इसमें तीन दिनों के भीतर जवाब देने को कहा गया था। यही नहीं वीसी ने शोकॉज करते हुए संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर सस्पेंड करने और विभागीय कार्रवाई करने की बात भी कही थी। मालूम हो कि प्रभारी कुलसचिव डॉ धीरेंद्र प्रसाद सिंह पर अधिकारियों को दिग्भ्रमित करने सहित कई तरह के आरोप लगाये गये थे।

शहरी टीका एक्सप्रेस से आज 5 टीका केंद्रों पर कुल 190 टीके लगाए गए

आरा : नगर आयुक्त की देखरेख में एक दिन पूर्व से निर्धारित शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण के अच्छे परिणाम दिखाई दिए। बताते चलें कि कल शाम को हुई बैठक में वार्ड 43, 44, 39,10 एवं 16 में टीकाकरण स्थल चिन्हित किए गए तथा स्वास्थ्य विभाग सहित संबंधित माननीय वार्ड पार्षद, सीडीपीओ, महिला पर्यवेक्षिका, आंगनवाड़ी सेविका सहायिका, पीडीएस डीलर इत्यादि को प्रचार एवम टीकाकरण की तैयारी हेतु समुचित निर्देश दिए गए थे।

सभी स्थलों पर प्रभावी टीम का गठन किया गया जिसका परिणाम हुआ कि वार्ड 43 में कुल 20 लोगो को, वार्ड 44 में भी 20, मिशन स्कूल में 40 लोगो को, झोपड़िया स्कूल में 90 लोगो को तो जिला स्कूल में कुल 20 लोगो को टीका लगाया गया। कोरोना टीकाकरण अब आपके द्वार अभियान शहरी क्षेत्रों में अगले 10 दिनों तक संचालित रहेगा। उक्त कार्य में स्वास्थ्य विभाग एवम अन्य के साथ आईसीडीएस की टीम काफी सक्रिय दिखाई दी।

नहीं रही रंगमंच की संरक्षिका नन्दनी सिन्हा

आरा : वरिष्ठ रंगकर्मी व पत्रकार रवीन्द्र भारती की 75 वर्षीय मां नन्दनी सिन्हा तीन वर्ष की लम्बी बिमारी के बाद अंतिम सांस ली| उनका निधन क्रोनिक अटैक के कारण हुआ। भोजपुर जिले के कल्याणपुर की रहने वाली नन्दनी सिन्हा का जन्म 11 दिसंबर 1945 को हुआ था। उनकी शादी तारकेश्वर शरण सिन्हा से हुआ था, जो नहर विभाग में क्लर्क थे. वे हमेशा कलाकारों को अपने घर पर रिहर्सल के लिए बुलातीं और उन्हें प्रोत्साहित करती थीं। कितनी भी बड़ी संख्या क्यों न हो उनके लिए कलाकार अपने बच्चे जैसे प्यारे थे। उन्हें सभी प्यार से अम्मा बुलाते थे।

नंदनी सिन्हा ने रवीन्द्र भारती और अभिषेक गौरव जैसे दो अभिनेता आरा रंगमंच को दिया। रवीन्द्र भारती सिर्फ अभिनेता ही नही बल्कि एक कुशल निर्देशक और पत्रकार भी है। वे भोजपुर के पहले ऐसे रंगकर्मी हैं जिनको भारत सरकार के साथ ऑस्ट्रेलिया के कैनबेरा यूनिवर्सिटी ने फेलोशिप के लिए चुना था। नन्दनी सिन्हा अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़कर गयी हैं। उन्हें 2 लड़के और 3 लड़कियां है और सबकी शादी हो गयी है। डॉ रमेश सिन्हा, डॉ प्रदीप कुमार सिन्हा और आर्ट कॉलेज आरा के पूर्व प्राचार्य डॉ. सुधीर कुमार सिन्हा उनके देवर हैं। नंदनी सिन्हा के निधन की खबर से भोजपुर के कलाकारों में शोक की लहर है।

वरिष्ठ रंगकर्मी चन्द्रभूषण पांडेय, अशोक मानव, भास्कर मिश्रा, कृष्णेन्दू, शैलेन्द्र सच्चु, आलोक सिंह, पत्रकार कृष्ण कुमार, आलोक सिन्हा, प्रेमजीत, रौशन कुमार, रौशन, रजनीश कुमार उज्ज्वल गुंजन, ओमकार रमण, आदित्य, डब्लू कुमार, ओपी पांडेय के साथ चित्रकार रौशन राय, कमलेश कुंदन ने शोक संतप्त परिवार से मुलाकात कर अपनी संवेदना व्यक्त की। आरा रंगमंच,अभिनव एवं एक्ट, सर्जना, अम्बा, नेशनल साइंटिफिक रिसर्च एन्ड सोशल एनालिसिस ट्रस्ट जैसे कई सामाजिक और सांस्कृतिक संस्थाओं ने नन्दनी सिन्हा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

पुलिस ने विशेष अभियान चलाकर किया 107 अभियुक्तों को गिरफ्तार

आरा : कोरोना से खुद को बचाते हुए लोगों की सेवा करने के लिए भोजपुर पुलिस अब लगतार सक्रिय हो गई है, क्योंकि भोजपुर में सिंघम के रूप में एसपी श्री राकेश कुमार दुबे पहुंचे हैं और बड़े-बड़े मुजरिमों को छक्के छुड़ा रहे हैं। वहीं भोजपुर एसपी दुबे ने सोशल मीडिया के माध्यम से मीडिया को बताया कि 3 जून को विशेष समकालीन अभियान चलाया गया था, इस के तहत अभियान में कई जगहों पर छापेमारी आयोजन कराया गया।

जिसके दौरान 107 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। साथ ही अवैध आग्नेयास्त्र शराब की बरामदे की गई। देसी राइफल एक, कारतूस तीन, विदेशी शराब 23 .58 लीटर ,देसी महुआ शराब 119 लीटर ,महुआ फूल 190 किलोग्राम, मोबाइल फोन आठ पीस, हीरोइन 124 पुड़िया (68ग्राम) तथा एक अपहुता को पुलिस ने किया बरामद।

राजीव एन अग्रवाल की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply