16 सितंबर : आरा की मुख्य ख़बरें

0
23 सितंबर : आरा की मुख्य ख़बरें

आरा के कलेक्ट्रेट तालाब घाट पर बड़ा हादसा, मां को बचाने में बेटा भी डूबा

आरा : नवादा थाना क्षेत्र के कलेक्ट्रेट तालाब में मंगलवार की देर रात मां-बेटे की डूबने से मौत हो गई। बुधवार की सुबह सूचना मिलने पर पुलिस शवों की बरामदगी में जुट गई है । एसडीआरएफ टीम को भी बुलाया गया है। दोनों मां-बेटा कबाड़ चुनकर जीवकोपार्जन करते थे। मृतकों में श्रीभगवान राम की 50 वर्षीय पत्नी बवनी देवी तथा 14 वर्षीय पुत्र सोमारु राम शामिल है। मौके पर नवादा इंस्पेक्टर संजीव कुमार और सीओ प्रवीण कुमार पांडेय व सीआई अनील कुमार सिंह समेत अन्य पदाधिकारी कैंप कर रहे हैं।

बताया जा रहा कि श्रीभगवान राम की पत्नी बवनी देवी मंगलवार की रात अपने छोटे बेटे को शौच कराने के लिए कलेक्ट्रेट तलाब घाट की ओर गई थी। इस दौरान पैर फिसलने से महिला तालाब में गिरकर डूब गई।छोटे बेटे ने शोर मचाया तो उसका बड़ा बेटा सोमारु बचाने के लिए तालाब में कूद पड़ा । जिसमें दोनों की मौत हो गई।

महिला के शव को बरामद कर लिया गया है। बेटा सोमारू के शव की खोजबीन जारी है। सीओ के अनुसार बड़हरा से एसडीआरएफ की टीम को बुलाया गया है। जिससे की महिला के बेटे के शव की खोजबीन की जा सके । घटनास्थल पर स्थानीय पुलिस पहुंची हुई है। शव की खोजबीन की जा रही है।

हॉकर हत्याकांड का आरोपित हथियार के साथ गिरफ्तार

आरा : भोजपुर जिले के करनामेपुर ओपी क्षेत्र के रामदतही गांव निवासी हॉकर की हत्या के एक आरोपित को पुलिस ने हथियार के साथ गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपित रामदतही गांव निवासी रितेश राय है। उसके पास से एक पिस्टल, दो मैगजीन व पांच गोलियां बरामद की गयी है।

भोजपुर एसपी हर किशोर राय द्वारा गिरफ्तारी की पुष्टि की गयी है। पुलिस के अनुसार रितेश राय पर पहले से हत्या, आर्म्स एक्ट और धोखाधड़ी सहित तीन मामले दर्ज हैं। हथियार बरामदगी में उसके खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की गयी है। हॉकर हत्या कांड में मुख्य आरोपित था। उस मामले में उसके खिलाफ चार्जशीट भी दायर की जा चुकी है।

बता दें कि 17 जनवरी 2018 की सुबह करनामेपुर ओपी क्षेत्र के बस स्टैंड-खैनिया बाबा के समीप रामदतही गांव निवासी हॉकर योगेंद्र ततवा की गोली मार हत्या कर दी गयी थी। उसे लेकर जमकर बवाल मचा था। करनामेपुर थाने पर पथराव कर दिया था। पुलिस जीप सहित कई वाहनों को फूंक दिया गया था। उस मामले में रितेश राय सहित अन्य के खिलाफ केस किया गया था।

महिला से 50 हजार छीनकर भागा बाइक सवार उचक्का

आरा : बेलवनिया एसबीआई बैंक से पैसा निकाल कर घर जा रही एक महिला से बाइक सवार दो अपराधी 50 हजार रुपया छीन कर भाग निकला। घटना मंगलवार को बिहिया थाना क्षेत्र के डुमरिया गांव के समीप घटी। मामले को लेकर पीड़िता डुमरिया निवासी आनन्द चौधरी की पत्नी गीता देवी ने बिहिया थाने में अज्ञात बाईक सवारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है।

बताया जाता है कि महिला बिहिया थाना के बेलवनिया स्थित एसबीआई शाखा से 50 हजार रूपये निकालकर बस से अपने गांव डुमरिया के पास उतरी। जैसे ही महिला अपने गांव के रास्ते पर बढ़ी कि इसी दौरान बाईक सवार दो युवक पीछे से आकर महिला के हाथ से पैसे से भरा बैग छिन लिया। महिला कुछ समझ पाती कि बाइक सवार युवक भाग निकले। अनुमान है कि उचक्के बैंक से महिला के पीछे लगे थे। पुलिस बैंक के सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उचक्कों की पहचान में जुटी हुई है।

आग की चपेट में आने से बक्सर के बगेन गोला निवासी महिला की मौत

आरा : बक्सर जिले के बगेन गोला थाना क्षेत्र के बगेन की महिला की जो आरा में रहती थी, मंगलवार को आग की चपेट में आने से एक अधेड़ महिला की मौत हो गई। उसने इलाज के दौरान आरा सदर अस्पताल में दम तोड़ दिया। जानकारी के अनुसार मृतका बगेन गांव निवासी राजदेव प्रसाद कि 53 वर्षीया पत्नी उषा देवी है।

मृतका के परिजनों ने बताया कि आज सुबह गैस चूल्हा पर खाना बना रही थी। उसी दौरान उनकी साड़ी आग की चपेट में आ गई। देखते ही देखते आग पूरी तरह फैल गई। जिससे वह गंभीर रूप से झुलस गई। आनन-फानन में उन्हें इलाज के लिए आरा सदर अस्पताल लाया गया। जहां से प्राथमिक उपचार करने के बाद उन्हें पटना रेफर कर दिया गया था। हालांकि परिजन पटना नही ले जाकर उनका इलाज सदर अस्पताल में ही करा रहे थे। जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। इसके बाद परिजन बिना पोस्टमार्टम कराये ही शव को वापस गांव ले गये।

बताया जाता है कि मृतका को दो पुत्र संटू,चंदन एवं एक पुत्री नीलम देवी है। घटना के बाद मृतका के घर में कोहराम मच गया है। हादसे के बाद मृतका के परिवार के सभी सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल था।

आरा स्टेशन पर टेंडर की अवधि समाप्ति के बावजूद चल रहा है पार्किंग स्टैंड

आरा : दानापुर रेल डिवीजन अंतर्गत आरा रेलवे स्टेशन पर पार्किंग स्टैंड के टेंडर की अवधि समाप्त हो गयी है। इसके बाद भी विभागीय मिलीभगत से पार्किंग के नाम पर भी अवैध रूप से वसूली की जा रही है। रेलवे परिसर और पार्किंग जोन में खड़े होने वाले गाड़ियों के मालिकों से पार्किंग चार्ज लिया जाता है। यह स्थिति कुछ दिन पहले से है। इसके बावजूद रेलवे का ध्यान इस मुद्दे पर नहीं है। इस वजह से पार्किंग स्टैंड में वाहन लगाने वाले लोगों को अवैध रूप से पैसा देना पड़ रहा है। इस कारण लोगों में आक्रोश भी दिख रहा है।

कई बार वाहन संचालक और स्टैंड चलाने वालों के बीच विवाद काफी बढ़ते हुए मारपीट तक पहुंच जा रहा है। दूसरी तरफ अवैध वसूली करने वाले लोग मालामाल हो रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिस एजेंसी को पार्किंग स्टैंड का लाइसेंस दिया गया था, उसकी तय समय-सीमा वर्ष 2017 से लेकर 4 सितंबर 2020 तक ही थी। निर्धारित समय सीमा समाप्त होने के बाद रेलवे के द्वारा इसका दोबारा टेंडर नहीं किया गया है। ना पुराने वाले टेंडर की अवधि बढ़ाई गयी है। इसके बाद भी वाहनों से पार्किंग के नाम पर अवैध वसूली की जा रही है।

स्टेशन परिसर में दोपहिया या चार पहिया वाहन लगाने पर वाहनों से अवैध रूप से पैसे लिए जा रहे हैं। कई बाइक वाले और वाहन संचालकों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि अवैध रूप से पैसा लेने के साथ-साथ ज्यादा राशि ली जा रही है।

वर्तमान समय में बहुत कम ट्रेन चलने के कारण किसी को भी पार्किंग स्टैंड चलाने का आदेश नहीं है। जो भी लोग पार्किंग स्थल पर वहां वाहन लगाते हैं, उनसे किसी भी प्रकार की राशि की वसूली किसी के द्वारा भी नहीं करनी है। यदि कोई राशि की वसूली करता है, तो यह पूरी तरह से अवैध है। इसकी लिखित शिकायत रेलवे स्टेशन पर स्थानीय प्रबंधक को देने के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

ट्रेन परिचालन की गति पकड़ते ही बढ़ जायेगी वाहन चालकों की मुश्किलें

आरा : आरा नये वनवे सिस्टम आने वाले दिन में और भी मुश्किल भरा होगा। ट्रेन परिचालन की गति पकड़ते ही वहां चालकों पर मुसिबतें भी गति पकड़ लेगी। लोगों की मानें तो फिलहाल लॉकडाउन के कारण ट्रेनों की संख्या कम है। इस कारण फाटक कम गिर रहा और वाहन आराम से गुमटी पार कर जा रहे हैं।

लेकिन ट्रेनों का परिचालन जब पूरी तरह पटरी पर आ जायेगा और सभी ट्रेनें चलने लगेंगी। तब पूर्वी गुमटी पार करना वाहनों के लिये काफी मुश्किल होगा। उसकी वजह यह है कि आरा रेलवे स्टेशन दिल्ली-हावड़ा मेन लाइन पर है और रोज सैकड़ों ट्रेनें पार करती है। इससे पूर्वी गुमटी का फाटक अक्सर गिरा ही रहता है। इस कारण पूर्वी रेलवे क्रॉसिंग पर पिछले दिनों जाम लगा रहता था।

जाम के कारण ही अधिकतर वाहन चालक पूर्वी रेलवे क्रॉसिंग होकर जाने से परहेज करते थे। उसे देखते हुये ही गुमटी पर ओवरब्रिज बनाया जा रहा है। लेकिन निर्माण की गति देख फिलहाल ओवरब्रिज के तैयार होने में काफी समय लगने का अनुमान है। तबतक नये वनवे सिस्टम के कारण लोगों व वाहन चालकों को काफी कठिनाइयों से गुजरना पड़ेगा।

वहीं गुमटी के पास जाम की दूसरा वजह दोनों ओर से वाहनों का आना है। बता दें कि नये वनवे सिस्टम के अनुसार सासाराम की ओर से आने वाले वाहनों को जहां बिहारी मिल और गुमटी होकर शहर में इंट्री करने की अनुमति है। वहीं पटना की ओर से सासाराम बक्सर की आने वाले वाहनों को भी पुर्वी गुमटी और स्टेशन होते जाना है। ऐसे में पूर्वी गुमटी के पास जाम लगने की आशंका बढ़ गयी है।

बेटी ने पिता को मुखाग्नि देकर बेटे का निभाया फर्ज

आरा : आज के समय में लड़की और लड़के में कोई भेद नहीं रह गया है जो कार्य लड़के करते थे.वही आज लड़कियां भी अपने माता-पिता के फर्ज को बखूबी निभा रही हैं.इसी कड़ी में आरा के नगर थाना अंतर्गत आज के परिवेश में जो एक बेटी ने फर्ज निभाया उसे देखकर सभी की आंखें छलक गई.शहर के एमपी बाग निवासी स्वर्गीय रामसागर प्रसाद के पुत्र उतम कुमार का आकस्मिक निधन हो गया।

दिवंगत उतम कुमार की सिर्फ एक ही बेटी नेहा हैं। उनका कोई बेटा नहीं था। जब अचानक पिता की मौत होने पर परिवार वाले व स्थानीय मुहल्लावासियों शव का अंतिम संस्कार करने के लिए गांगी स्मशान घाट लाये तो बेटी नेहा कुमारी ने पिता को कंधा देकर अपने घर से उनके पार्थिव शरीर को विदा किया. इसके बाद श्मशान घाट में अंतिम संस्कार कर चिता को मुखाग्नि दी।

बेटा न होने के कारण बेटी द्वारा पिता की चिता को मुखाग्नि दिए जाने के बारे में जब नेहा से बात की गई तो उसने कहा कि पिता की इच्छा थी कि उनकी मृत्यु पर अर्थी को कंधा उनकी एकलौती बेटी नेहा दे और चिता को भी अग्नि उन्हीं के हाथों दी जाए। उनकी अंतिम इच्छा पूरी करते हुए हमने अपने पिता का अंतिम संस्कार किया हैं।

पुलिस गिरफ्त से आरोपी को छुड़ाकर ले गए लोग

  • मुंह देखती रह गई सुशासन की रॉबिन हुड पुलिस

आरा : बिहार में इन दिनों आपराधिक घटनाएं तेजी से बढ़ रही है. बिहार पुलिस की टीम अपराध पर नकेल कसने की कोशिश में जुटी हुई है लेकिन बावजूद इसके अपराधियों ने पुलिस की नाक में दम कर रखा है. वहीं, दूसरी ओर आरा से एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है, जो भोजपुर पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा करती है. दरअसल पुलिस हिरासत से कुछ लोग एक शख्स को छुड़ा ले गए, जिसके ऊपर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है.
मामला भोजपुर जिले के बड़हरा प्रखंड का है. जहां सिन्हा ओपी की हिरासत से कुछ लोग अभियुक्त को छुड़ा कर ले गए. इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया है, जो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है.

बताया जा रहा है कि एक शख्स को एससी/एसटी एक्ट और धारा 307 के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तार आरोपी को छुड़ाने के लिए स्थानीय लोगों ने सड़क पर हंगामा शुरू कर दिया. उन्होंने पुलिस से आरोपी को छोड़ने की अपील की. वे लोग पुलिस के ऊपर अभियुक्त को छोड़ेने का दबाव बनाने लगे. सिन्हा ओ पी के इंचार्ज विपुल कुमार का कहना है कि एससी/एसटी एक्ट और धारा 307 के आरोप में सोमारु यादव को गिरफ्तार किया था. लोगों ने जब बवाल किया तो आरोपी को छोड़ना पड़ा.

दरअसल सिन्हा गांव के पीडीएस दुकानदार चैत राम ने सोमारु यादव समेत अन्य के खिलाफ एससी/एसटी और अन्य धारा के अंतर्गत एफआईआर दर्ज कराया था. जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर आउटपोस्ट में रखा. कुछ देर ओपी में रखने के बाद जब पुलिस उसे बड़हरा थाने को सौंपने जा रही थी. इस दौरान स्थानीय लोगों ने पुलिस वैन को चारों तरफ से घेर लिया और हंगामा शुरू कर दिया.

सोन नदी में यह नौका दौड़ नहीं लाल बालू का काला खेल है

आरा : यह तस्वीर आरा के कोइलवर पुल के पास सोन नदी की है, जो भोजपुर व सारण जिलों के बॉर्डर एरिया में आता है। वर्तमान में बालू के खनन पर रोक है, छपरा-आरा बॉर्डर पर बालू का अवैध कारोबार धड़ल्ले से जारी है। पुलिस और खनन विभाग इस पर रोक लगाने में नाकाम है। यही कारण है कि हर दिन अल सुबह की स्थिति दर्शनीय होती है-

पांच दिन पहले आरा के एसपी हरकिशोर राय ने यहाँ अब तक कि सबसे बड़ी छापेमारी कर 13 बालू कारोबारियों को गिरफ्तार किया था। साथ ही 38 गाड़ियों को जब्त भी किया था। इसके पहले कभी भी भोजपुर पुलिस ने इन इलाकों में बड़ी छापेमारी नहीं कि थी। इसके बाद भी पैट्रोलिंग में लगी पुलिस भी वसूली में लगी रहती है।

700 से 800 नावों पर सोन नदी से चोरी छुपे बालू लोड कर गंगा व घाघरा नदियों के रास्ते उत्तर प्रदेश ले जाया जाता है। हर दिन पांच से छह करोड़ का कारोबार होता है। 15 फिट बालू रहता है एक नाव में, करीब 50 हजार का बालू लदा रहता है। तीन हजार प्रति घनफिट यूपी में कर दी जाती है बिक्री। बालू की कीमत यूपी में दोगुनी मिलती है।

नावें गंगा व घाघरा नदियों के दो रूटों से होकर 10 घाटों पर अनलोड होती हैं। छपरा के डोरीगंज होते हुए घाघरा नदी से यूपी के चांददियारा और बैजू टोला व सिताबदियारा घाटों पर अनलोड होती हैं। गंगा नदी से जानेवाली नावें देवरिया, टुकटी, लालगंज व रामगढ़ घाटों पर अनलोड होकर बिक जाती हैं। वहां से ट्रकों से बालू को ले जाया जाता है।

इसकी मॉनिटरिंग के लिए स्थानीय थाना व माइनिंग डिपार्टमेंट के अधिकारियों को लगाया गया है। पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। इसके अलावा खनन विभाग को मिली 80 पुलिस-फोर्स को उनकी नाकामी के कारण वापस ले ली गई है।

इसी बीच भोजपुर पुलिस ने मंगलवार की मध्य रात्रि कोईलवर के सोन नदी में अवैध बालू खनन के विरुद्ध जबरदस्त अभियान चलाया। इस दौरान पुलिस ने अवैध बालू उत्खनन में संलिप्त 72 लोगों को गिरफ्तार किया। वहीं 5 नावों को भी जब्त किया। पुलिस की इस कार्रवाई से बालू के अवैध खनन में लगे लोगों में हड़कंप मचा रहा। इसकी जानकारी भोजपुर एसपी हर किशोर राय ने दी। बता दें कि भोजपुर पुलिस सोन नदी (Koelwar) में अवैध रूप से बालू उत्खनन करने वाले लोगों के विरुद्ध लगातार अभियान चला रही है। कुछ दिन पूर्व भी पुलिस ने डेढ़ दर्जन लोगों को गिरफ्तार किया था। छह नावो को भी जब्त किया था। इसी क्रम में मंगलवार की मध्यरात्रि पुलिस को सफलता मिली। इतना के बावजूद अवैध खनन रुकने का नाम नही ले रहा है|

नये वनवे सिस्टम ने बदाई यात्रियों की परेशानी

आरा : शहर को जाम से निजात के लिये शुरू की गयी नयी वनवे व्यवस्था अब आम लोगों के लिये जंजाल बनती जा रही है। एसपी की पहल पर शुरू की गयी नयी वनवे व्यवस्था से आम लोगों को तो खासी परेशानी हो रही है। जाम से शहर को छुटकारा तो नहीं मिला, उल्टे अब लोगों को शहर में इंट्री करने के लिये लंबा चक्कर लगाना पड़ रहा है। या यूं कहें कि शहर की परिक्रमा करनी पड़ रही है। ऐसे में कम होने के बदले जाम बढ़ता ही जा रहा है।

वहीं पुलिस की लापरवाही के कारण बुधवार को शहर में कई जगहों पर नो इंट्री की भी घज्जियां उड़ती रही। महावीर टोला में दोपहर में दोनों ओर से वाहनों को आते-जाते देखा गया। इससे दोपहर में भयंकर जाम लगा रहा।

इधर, नये वन वे सिस्टम के अनुसार पीरो व जगदीशपुर की ओर से आने वाले वाहनों को बिहारी मिल, पूर्वी गुमटी होते ही शहर में इंट्री करने की अनुमति है। छोटे चार पहिया वाहनों पर भी यह नियम लागू है। ऐसे में बाजार समिति, कतिरा और पकड़ी जाने वाले वाहनों को आधे शहर का चक्कर लगाना पड़ रहा है।

वहीं बिहारी मिल व पूर्वी गुमटी के पास दोनों ओर से वाहनों के आने-जाने के कारण भी जाम लग जा रहा है। बिहारी मिल के पास अक्सर जाम लगा रहता है। इस कारण लोगों को घंटों जाम में फंसना पड़ रहा है। बता दें कि शहर को जाम से निजात दिलाने के लिये एसपी हर किशोर राय द्वारा वनवे व नो इंट्री सिस्टम लागू की गयी है।

15 वर्षीय किशोर को गोलगप्पा खाने के दौरान लगी गोली

आरा : भोजपुर जिले से इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है 15 वर्षीय एक किशोर को गोलगप्पा खाने के दौरान गोली लग गई। किशोर का आरोप है कि गोलगप्पा खा रहा था ,इसी दौरान मोती टोला में गोली मारी गई। गोली दाहिना पैर एवं जाघ के पास लगी। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो पाई कि किन कारणों से गोली लगी है। घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस वहां पहुंची है और मामले की छानबीन कर रही है ।इधर जख्मी को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया है। जख्मी का नाम सब सफदर है जो नादिरगंज रोजा मोहल्ला के शहजाद का बेटा है।

राजीव एन अग्रवाल

swatva

Leave a Reply